PoetryYour Stories

दिल ही तो है यारो और क्या है प्यार

दिल ही तो है यारो | क्या है प्यार

दिल ही तो है यारो …❤❤

ये दिल भी बहुत अजब है
जब तक धङकता रहे गज़ब है
वैसे तो खून का दौरा कराने वाला सिर्फ मांसपेशियों का पुर्जा है
पर गर इन्सान प्यार में पङ जाए तो ये अदाकार बन जाता दूजा है
फिर कैसी कैसी ये हरकतें करने लगता
सुन्दर मादक नारी देख उचकने लगता
माशुका मिल जाए तो बहुत खूब
वरना ये जाए डूब
कोई ना मनाए तो रूठ जाता
और गर प्रेमिका छोङ जाए तो टूट जाता
कोई इसे दिवाना बुलाता
तो कभी ये मस्ताना कहलाता
कभी खुशी से तो कभी गम से बावला कर जाता
हर जज़्बा ही दिल का मामला हो जाता
दिल पर हाथ रख सब क़समें खाते
इसके चिन्ह से ही तो सब वालेनटाइन डे की रस्में निभाते
ये तो मानो तब प्रेम संबंधों का राजा इन्द्र बन जाता
हर खुशी हर गम का केंन्द्र जो कहलाता …
क्या है प्यार….
द्वारा अनु सैनी
क्या प्यार सिर्फ प्रेमी ही हैं करते
मनमोहक मीठी बातें कर इक दूसरे के मन को हरतें
क्या प्यार इसी चिडिया का नाम है
नहीं!असल प्यार तो इक इश्वरीय पैगाम है
जो मिलता है मां के असीमित वात्सल्य से
बहिन के गूढ़ स्नेह से
पिता के दृढ यकीन से
भाई के अटूट बन्धुत्व से
दादा दादी के लाङ दुलार से
नाना नानी के स्नेह भरे आचार से
मामा मामी मौसा मासी फूफा बूआ चाचा चाची ताया ताईजी के बेइन्तहा लगाव से
पत्ति और पत्नी के एक दूसरे पर ऐतबार से
सर्वस्व परिवार के मेल मिलाप से
जिनसे बेजोङ रिश्ते बंध जाते है
इसे ही सही मायनों में प्यार कहते हैं…

 

द्वारा अनु सैनी

Comment here